सोमवार, 27 दिसंबर 2010

पुलिस


पुलिस अलबादी छोरो |
जके गे हाथ में डंडियों पाँच पोरो |
कानी- कानी जेबां, महं माल नावड़े बोरो |
जनता बोरडी गो पेड़,
ओ जद चढ़ ज्य बीं छोरे गे गेड़,
तो जित्ता डंडिया पड़े,
बित्ता ई बोरिया झड़े|

1 टिप्पणी:

  1. adarjog rajpuri ji dande ki mahiman apaar hai pahale master ji bachchon ko dande maarkar padhate th tab number bhi khb jhadate th ji uttam rachana ke liye sadhuwad

    उत्तर देंहटाएं